सूर्य स्तुति सूर्य वंदना भावार्थ सहित [राग बिलावल]

0
Surya Mukh Black Metal Copper Finish  - 1472410 / Pixabay

सूर्य-स्तुति

दीन-दयालु देवा । कर मुनि, मनुज, सुरासुर सेवा ॥१॥
हिम-तम-करि-केहरि करमाली। दहन दोष-दुख-दुरित-रुजाली ॥२ ॥
कोक-कोकनद-लोक- प्रकाश । तेज-प्रताप-रूप-रस-रासी ॥३॥
सारथि-पंगु, दिव्य रथ-गामी । हरि-संकर-बिधि-मूरति स्वामी॥४॥
बेद-पुरान प्रगट जस जागै। तुलसी राम-भगति बर मांगे ॥५॥

दिवाकर

भावार्थ-हे दीनदयालु भगवान सूर्य ! मुनि, मनुष्य, देवता और राक्षस सभी आपकी सेवा करते हैं ॥१॥ आप पाले और अन्धकाररूपी हाथियोको मारनेवाले वनराज सिंह हैं; किरणोंकी माला पहने रहते हैं; दोष, दुःख, दुराचार और रोगों को भस्म कर डालते हैं। २ ॥ रातके बिछुड़े हुए चकवा-चकवियोंको मिलाकर प्रसन्न करनेवाले, कमलको खिलानेवाले तथा समस्त लोकोंको प्रकाशित करनेवाले हैं । तेज, प्रताप, रूप और रसकी आपकि हैं ॥ ३ ॥आप दिव्य रथपर चलते हैं, आपका सारथी (अरुण) लूला है। हे स्वामी ! आप विष्णु, शिव और ब्रह्मा के ही रूप हैं ॥ ४ ॥ वेद-पुराणोंमें आपकी कीर्ति जगमगा रही है। तुलसीदास आपसे श्री राम- भक्ति वर माँगता है ।। ५ ॥।

Previous articleश्री गणेश-स्तुति विनय पत्रिका राग बिलावल
Next articleशिव-स्तुति शिव वंदना भावार्थ सहित राग बिलावल
alok
Alok kumar is an Indian content creator who is currently working with many world wide known bloggers to help theme deliver the very useful and relevant content with simplest ways possible to their visitors.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here